Delta plus Variant Symptoms:डेल्टा प्लस वेरिएंट के ये हैं हल्के, सामान्य और गंभीर लक्षण

Delta plus Variant Symptoms

Delta plus Variant Symptoms: अस्पतालों में बेड की कमी और ऑक्सीजन की किल्लत ने तो कई मासूमों की जान ले ली। वहीं, देश में बीते कुछ महीनों पहले कोरोना की जो दूसरी लहर आई, वो अब फिलहाल धीमी होती नजर आ रही है।

अब कोरोना की तीसरी लहर आने की आशंका जताई जा रही है। कहा जा रहा है कि भारत में तीसरी लहर आने का कारण कोरोना का नया रूप ‘डेल्टा प्लस’ हो सकता है। विश्व स्वास्थय संगठन यानी डब्ल्यूएचओ भी मान चुका है कि कोरोना का ये रूप बेहद खतरनाक है। ऐसे में इसके कुछ हल्के से लेकर गंभीर लक्षण हैं, जिन्हें हमें कभी भूलकर भी हल्के में लेने की गलती नहीं करनी है।

क्या है डेल्टा प्लस(What Is Delta Plus)

डेल्टा प्लस प्रकार वायरस के डेल्टा या बी1.617.2 प्रकार में उतपरिवर्तन होने से बना है। जीनोम का सबसे पहला क्रम इस साल मार्च महीने के आखिर में यूरोप में पाया गया था, वैज्ञानिकों ने कोरोना के इस नए रूप को ‘डेल्टा प्लस’ एवाई 1’ नाम दिया है।

डेल्टा प्लस के लक्षण(Delta Plus varient Symptoms)

-सूख खांसी होना
-बुखार आना
-थकान महसूस होना
-दर्द होना
-त्वचा पर चकत्ते होना
-पैर की उंगलियों और उंगलियों का मलिनकिरण
-गले में खराश
-स्वाद और गंध की हानि
-सिरदर्द होना
-दस्त लगना

Immunity Booster Tipes : कोरोना बचाव के लिए आयुष मंत्रालय ने शेयर किए उपाय

भारत में भले ही कोरोना वायरस की दूसरी लहर में कमी देखी जा रही है, लेकिन इसका मतलब बिल्कुल भी ये नहीं है कि कोरोना हमारे बीच से जा चुका है। वहीं, विशेषज्ञ पहले ही तीसरी लहर आने की चेतावनी दे चुके हैं। ऐसे में आने वाला समय और खतरे भरा हो सकता है।

तीसरी लहर को खासतौर पर बच्चों के लिए काफी खतरनाक बताया जा रहा है। हालांकि, डॉक्टर्स मानते हैं कि थोड़ी सी सावधानी बरतकर बच्चों को इस वायरस से बचाया जा सकता है। सही समय पर लक्षणों को पहचानकर अगर उनका इलाज शुरू कर दिया जाए,तो ये काफी मददगार साबित हो सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here